Search Bar

Yadav Shayari || Yadav Attitude Shayari || Yadav ki Shayari (यादव पर शायरी )

हैलो मेरे प्यारे साथियों कैसे हैं आप सभी उम्मीद करते हैं आप बेहतर होंगे, दोस्तों अगर आप यादव विरादरी से ताल्लुक रखते हैं और Yadav Shayari || Yadav Attitude Shayari || Yadav ki Shayari पढ़ना चाहते हैं तो ये Article आपके लिए ही है।

मित्रों अगर आप भी शायरी के शौकीन हैं तो आप हमारी इस website के regular visiter बन सकते हैं साथ ही अन्य बहुत से महत्वपूर्ण topics से संबंधित Article भी पढ़ सकते हैं।

    Yadav Shayari

    यादव शायरी पढ़ने से पहले आपको यादव जाति से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण जानकारियाँ दे देना चाहते हैं।

    • यादव जाति भारत, नेपाल और मॉरीशस देशों में बहुतायत संख्या में पाई जाती है।
    • यादव क्षत्रिय वर्ग से संबंधित हैं जो एक ताकतवर वर्ग के रूप में जाना जाता है।
    • ऐसा माना जाता है कि यदुवंशी भगवान श्री कृष्ण के वंशज हैं क्योंकि भगवान श्रीकृष्णा भी यदुकुल से संबंधित हैं।

    अस्वीकृत

    कृपया इस Article को जातिवाद के रूप में ना देखें;

    हमारा मकसद किसी भी तरीके से जातिवाद फैलाना नहीं है हम सिर्फ आपकी पसंद पर जातियों से संबंधित शायरी लेकर आते हैं। धन्यवाद!👍

    Inspirational Quotes 1.

    Yadav Shayari Attitude

    Attitude मत दिखा बेटा जल जाएगा अगर यादव से टकराएगा तो, घर तक पिटता ही जाएगा जय यादव जय माधव.
    — Yaduvanshi Ashish, Shayar


    Inspirational Quotes 2.

     Yadav Attitude Shayari

    यादव कन्हैया के दीवाने हैं तान के सीना चलते हैं, ये द्वारिकधीश का जंगल है, यहाँ शेर मुरलीधर के पलते हैं।
    — Yaduvanshi Ashish, Shayar

    Inspirational Quotes 3.

    यादव कन्हैया के दीवाने हैं तान के सीना चलते हैं, ये द्वारिकधीश का जंगल है, यहाँ शेर मुरलीधर के पलते हैं।
    — Yaduvanshi Ashish, Shayar

    Inspirational Quotes 4.

    यादव कन्हैया के दीवाने हैं तान के सीना चलते हैं, ये द्वारिकधीश का जंगल है, यहाँ शेर मुरलीधर के पलते हैं।
    — Yaduvanshi Ashish, Shayar

    Inspirational Quotes 5.

    यादव कन्हैया के दीवाने हैं तान के सीना चलते हैं, ये द्वारिकधीश का जंगल है, यहाँ शेर मुरलीधर के पलते हैं।
    — Yaduvanshi Ashish, Shayar

    Inspirational Quotes 6.

    यादव कन्हैया के दीवाने हैं तान के सीना चलते हैं, ये द्वारिकधीश का जंगल है, यहाँ शेर मुरलीधर के पलते हैं।
    — Yaduvanshi Ashish, Shayar

    इस Article के बारे में जानकारी

    Study Mirror आपके लिए इसी तरह का शानदार Content लेकर आता रहता है साथ ही आपको बहुत ही अच्छी जानकारी प्रदान करता रहता अगर आपको किसी भी तरह के Article को पढ़कर ऐसा लगा कि हमने किसी की भावनाओ को आहात किया है तो उसके लिए दिल से Sorry आप हमें Email कर उसके बारे में बता सकते हैं जल्द ही हम उस content को अपने इस ब्लॉग से हटा लेंगे। धन्यवाद!.

    Post a Comment

    0 Comments